जब हम दुनिया के सात अजूबों का नाम सुनते हैं तो उनमें सबसे खूबसूरत इमारत का नाम आता है ताजमहल

ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज महल की याद में बनवाया था।

 ताजमहल को दुनिया भर में प्यार करने वाले जोड़ों द्वारा प्यार की एक अद्भुत मिसाल के रूप में देखा जाता है।

ताजमहल का आधार एक लकड़ी पर बना है जिसे मजबूत रहने के लिए नमी की जरूरत होती है, 

इसलिए ताज महल के बगल में यमुना नदी है, इसलिए यह लकड़ी मजबूत होती है।

ताजमहल को देखने के लिए 1 दिन में 12000 लोगों की भीड़ जमा होती है, इतने सारे लोग पूरी दुनिया में किसी भी इमारत को देखने एक साथ नहीं जाते।

ताजमहल को बनाने वाले मजदूरों के हाथ काट दिए गए ताकि वे दूसरे ताजमहल जैसी इमारत न बना सकें।

ताजमहल में लाइट नहीं होने के मुख्य दो कारण हैं,  इसका पहला मुख्य कारण है कि ताजमहल सफेद संगमरमर का बना हुआ है।

ताज महल के अंदर और बाहर लाइट लगाने से बाहर के कीट पतंगे लाइट की तरफ आकर्षित होंगे और ताजमहल की दीवारों पर बैठकर मल त्याग करेंगे। 

दूसरा मुख्य कारण यह है कि किसी कब्रिस्तान या मकबरे में लाइट नहीं लगाई जाती जो कि इस्लामिक कल्चर को फॉलो करता है

तथा ताजमहल को मकबरा माना जाता है। यही इसका दूसरा मुख्य कारण है जो कि ताजमहल में लाइटे नहीं लगाई गई।

NEXT STORY : दिल्ली से सिर्फ 1 घंटे की दूरी पर बसा है मिनी लेह लद्दाख, घूमने के शौकीन हैं तो बना लें प्लान