Kinnaur kailash

Kinnaur Kailash Yatra 2024 : कब जाये,कैसे जाये ? हिमाचल के किन्नौर कैलाश की यात्रा है बिलकुल अनोखी

Kinnaur Kailash :हिमालय की बर्फीली चोटियों में कई ऐसे धार्मिक स्थल छिपे हैं, जहां कई धार्मिक मान्यताएं मौजूद हैं। ऐसी ही एक जगह है हिमाचल का किन्नर कैलाश पर्वत, जो किन्नौर जिले में है। शिवरात्रि 2021 आ गई है और इस मौके पर हम आपको इस पर्वत और यहां मौजूद 79 फीट ऊंचे शिवलिंग के बारे में बताएंगे। दरअसल, पहाड़ की चोटी पर बना यह शिवलिंग बेहद खास है। इस शिवलिंग की सुंदरता की बात करें तो यह शिवलिंग किन्नर कैलाश बादलों से घिरा हुआ है और पास में बर्फ से ढकी पर्वत चोटियाँ हैं।

Kinnaur kailash

यह शिवलिंग समुद्र तल से 17200 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। चूँकि किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) शिवलिंग बहुत ऊँचा है इसलिए यह चारों तरफ से बादलों से घिरा हुआ है। यह हिमाचल के सुदूर स्थान पर स्थित है इसलिए यहां ज्यादा लोग दर्शन के लिए नहीं आते हैं। किन्नरा कैलाश की प्राकृतिक सुंदरता मंत्रमुग्ध कर देने वाली है।

ट्रेक को करने का सबसे अच्छा समय-Best Time To Do Kinnaur Kailash Trek

यह खूबसूरत यात्रा मई से अक्टूबर तक ही चलती है। सर्दियों में यहां बहुत बर्फबारी होती है और लोग यहां नहीं आ पाते। रास्ता कठिन है और इस क्षेत्र में बहुत अधिक वर्षा होती है, इसलिए मानसून के दौरान भी यहां आना मना है।

YOU MAY LIKE:

READ THIS ALSO :  Lakshadweep Tour Packages from Kochi:Explore the Pristine Beauty of Lakshadweep

क्यों खास है किन्नर कैलाश का शिवलिंग-Kinnaur Kailash

Kinnaur kailash yatra

जैसा कि हमने पहले बताया, यह शिवलिंग 79 फीट ऊंचा है। यह वास्तव में शिवलिंग और त्रिशूल के समान एक पत्थर है। पहाड़ की चोटी पर यह बहुत संतुलित है। एक और विशेषता यह है कि शिवलिंग लगातार अपना रंग बदलता रहता है। माना जाता है कि इस शिवलिंग का रंग हर घंटे बदलता है। सुबह में यह एक अलग रंग दिखता है, दोपहर में यह एक अलग सूरज जैसा दिखता है, और शाम को यह रंग फिर से अलग दिखता है। यह पार्वती कुंड के पास स्थित है और इसलिए अधिक प्रसिद्ध है।

हिमाचल का बदरीनाथ:Kinnaur Kailash Badrinath Of Himachal

किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) को हिमाचल का बद्रीनाथ भी कहा जाता है और इसे चट्टान महल के नाम से भी जाना जाता है। शिवलिंग के चारों ओर घूमना बहुत साहस और जोखिम का काम है। कई शिवभक्त जोखिम उठाकर खुद को रस्सियों से बांधकर यह परिक्रमा पूरी करते हैं। पूरे पहाड़ को पार करने में एक सप्ताह से दस दिन तक का समय लगता है।

ऐसी भी मान्यता है कि किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) के दर्शन से आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी। यहां से दो किलोमीटर दूर रेंग्रिकटुगम में एक बौद्ध मंदिर है। यहां मृत आत्माओं की शांति के लिए दीपक जलाए जाते हैं। यह मंदिर बौद्ध धर्म और हिंदू धर्म का संगम भी है। कई छोटी-बड़ी बुद्ध प्रतिमाओं में से एक बड़ी प्रतिमा दुर्गा मां की भी है।

क्या हैं किन्नर कैलाश से जुड़ी मान्यताएं-

Kinnaur kailash Himachal Pradesh

किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) शिवलिंग का आकार त्रिशूल जैसा दिखता है। किन्नर कैलाश पार्वती कुंड के बहुत करीब हैं इसलिए उनकी मान्यता बहुत अधिक है।

READ THIS ALSO :  Smallest Country in the World:समंदर में दो पिलर पर बसा है दुनिया का सबसे छोटा देश, जहां रहते हैं सिर्फ़ 27 लोग!

READ THIS ALSO:

ऐसा माना जाता है कि पास के तालाब का निर्माण स्वयं देवी पार्वती ने किया था। यह भगवान पार्वती और भगवान शिव का मिलन स्थल था। मान्यता का यह भी कहना है कि सभी देवता सर्दियों में यहीं रहते हैं और इसलिए अक्टूबर के बाद यहां नहीं आते हैं।

ट्रेक है बहुत मुश्किल-Kinnaur Kailash Trek

किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) पर्वत की ट्रैकिंग काफी कठिन मानी जाती है। दरअसल, इस 14 किलोमीटर की पैदल यात्रा के चारों ओर बर्फ से ढकी चोटियाँ और सेब के बगीचे हैं। खूबसूरती की बात करें तो आप यहां सांगला और हैंग ग्रैंग वैली के नज़ारे का आनंद ले सकते हैं। इस ट्रेक का शुरुआती बिंदु तांगलिंग गांव है। सतलज नदी के किनारे बसा ये गांव है खास. यहां से आपको मलिंग खाता जाना होगा, जो 8 किलोमीटर दूर है। इसके बाद यहां से 5 किलोमीटर दूर पार्वती कुंड पर जाकर वहां दर्शन करने के बाद एक किलोमीटर और चलने पर किन्नर शिवलिंग आता है।

Kinnaur kailash

यह मार्ग बहुत कठिन है, इसलिए यहां पूरी तैयारी के साथ और स्थानीय गाइड की मदद से आने की सलाह दी जाती है। वहीं, साल के किसी भी समय यहां गर्म कपड़ों की जरूरत पड़ती है, इसलिए इस बात का ध्यान रखें। इस चढ़ाई पर चढ़ना और उतरना दोनों ही खतरनाक हैं। इसलिए अच्छे सपोर्ट वाले जूते चुनें।

किन्नर कैलाश यात्रा : Kinnaur Kailash Yatra

स्थान:धार गाला, हिमाचल प्रदेश 172107
यात्रा की संभावित शुरुआत और समाप्ति तिथि: किन्नर कैलाश यात्रा गुरुवार, 1 अगस्त, 2024 को शुरू होगी (अनुमानित तिथि – तिथि की पुष्टि नहीं)।
ऊंचाई: 6500 मीटर
पर्वत श्रृंखला: हिमालय
ऋतु: जुलाई और अगस्त।
निकटतम रेलवे स्टेशन: कालका रेलवे स्टेशन, कल्पा से लगभग 309 किमी दूर।
निकटतम हवाई अड्डा: शिमला हवाई अड्डा, किन्नर कैलाश से लगभग 243 किमी दूर।
सड़क मार्ग से: दिल्ली से शिमला की दूरी लगभग 342 किमी है और शिमला से कल्पा की दूरी लगभग 342 किमी है। कल्पा और पोवारी के बीच की दूरी 223 किमी है। 9.7 कि.मी. पोइरी गांव इस यात्रा का प्रारंभिक बिंदु है।

location:

किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash )हिंदुओं और बौद्धों के लिए एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) हिंदू आस्था का प्रतीक है। किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में तिब्बती सीमा के पास स्थित है। किन्नर कैलाश समुद्र तल से 6,050 मीटर (लगभग 24,000 फीट) की ऊंचाई पर स्थित एक पर्वत है।

Kinnaur Kailah yatra 2024

किन्नर कैलाश लगभग 40 फीट ऊंचे और लगभग 16 फीट चौड़े पर्वत की चोटी पर स्थित है। हिंदू धर्म में बर्फ के इस खंड को भगवान शिव के प्राकृतिक शिवलिंग के रूप में पूजा जाता है। हिमालय में हिंदू तीर्थयात्राओं में से एक, किन्नर कैलाश परिक्रमा भी आयोजित की जाती है।

READ THIS ALSO :  Dzukou Valley Helipad: A Gateway to Natural Splendor

हिमालय पर्वत न केवल हिंदू पौराणिक कथाओं से जुड़े हैं बल्कि हिंदू समाज की मान्यताओं से भी इसका गहरा संबंध है। ये वही हिमालय हैं जहां से परम पवित्र नदी गंगा गोमुख का उद्गम होता है। “देवताओं की घाटी” कुल्लू भी इन्हीं हिमालय पर्वतों में स्थित है। इस घाटी में 350 से अधिक मंदिर हैं।

Kinnaur Kailah yatra 2024

किन्नर कैलाश ( Kinnaur Kailash ) की यात्रा मानसरोवर या अमरनाथ की यात्रा जितनी ही कठिन है। यह यात्रा हर साल सावन के महीने में शुरू होती है। यात्रा लगभग 2-3 दिनों तक चलती है। यह यात्रा 1993 से पर्यटकों का स्वागत कर रही है। आप अपनी यात्रा में हजारों ब्रह्म कमल के फूल देख सकते हैं। भगवान शिव को यह फूल बहुत प्रिय है।

अगर आपको ये ब्लॉग पसंद आया है तो प्लीज सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे।

Leave a Reply

x
error: Content is protected !!
Scroll to Top