Kedarnath temple

Kedarnath temple:केदारनाथ धाम, कहां है, कैसे जाएं, कब जाएं, रजिस्ट्रेशन फीस

Kedarnath temple:केदारनाथ धाम भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित एक महत्वपूर्ण हिन्दू तीर्थ स्थल है, जो हिमालय के शिवपर्वती पर्वत क्षेत्र में स्थित है। यह स्थल हिन्दू धर्म के प्रमुख देवता भगवान शिव को समर्पित है और यहाँ पर उनकी पूजा की जाती है। केदारनाथ धाम केदारनाथ मंदिर के रूप में प्रसिद्ध है, जो केदारनाथ नामक शिव मंदिर है।

केदारनाथ मंदिर हिमालय के गिरिवाल पर्वतों के बीच गंगा नदी के किनारे स्थित है। यहाँ पर मंदिर अत्यंत धार्मिक और आध्यात्मिक माहत्म्य के साथ सुसज्जित है, और यह भारतीय उपमहाद्वीप के चार धामों में से एक है, जिन्हें चार धाम यात्रा का हिस्सा माना जाता है।(Kedarnath temple)

केदारनाथ मंदिर का निर्माण प्राचीन काल में हुआ था, और यह मंदिर पांच महीने के लिए ही जीर्णोद्धार के लिए खुलता है। जिसके बाद यह चार महीने तक बर्फ से ढका रहता है क्योंकि हिमालय क्षेत्र में बर्फबारी का सीजन आता है।(Kedarnath temple)

केदारनाथ धाम जीर्णोद्धार के लिए हिन्दू यात्री का महत्वपूर्ण स्थल है, और यहाँ पर आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियाँ अनिवार्य रूप से आयोजित की जाती हैं। केदारनाथ धाम को पहुंचने के लिए यात्री यहाँ पर्वतीय क्षेत्र के अत्यधिक कठिन यात्रा करते हैं, लेकिन उन्हें अपने धार्मिक आराधना के लिए यह कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

Kedarnath temple
kedarnath temple ,Uttarakhand

केदारनाथ धाम कहां है ?(Where Is Kedarnath)

केदारनाथ धाम भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित है। यह हिमालय के प्रस्थित गर्हवाल पर्वतीय क्षेत्र में स्थित है और गर्मगोठ ग्राम के पास बद्रीनाथ धाम से करीब 223 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। केदारनाथ मंदिर हिमालय के शिवपर्वती पर्वत क्षेत्र में स्थित है, और यह एक प्रमुख हिन्दू तीर्थ स्थल है जो भगवान शिव को समर्पित है।(Kedarnath temple)

READ THIS ALSO:Srilanka eta:भारतीय नागरिकों के लिए श्रीलंका पर्यटक वीज़ा

केदारनाथ धाम कैसे जाएं, कैसे पहुंचे(Kedarnath temple)

केदारनाथ धाम पहुंचने के लिए आपको उत्तराखंड राज्य के गर्हवाल जिले के गर्मगोठ ग्राम को अपने मंगलवार धाम यात्रा के बारे में जानना होगा। यहां तक पहुंचने के लिए आपको इस पर्वतीय क्षेत्र में ट्रैकिंग या यातायात के विभिन्न विकल्पों का सहारा लेना होगा।

निम्नलिखित तरीकों से आप केदारनाथ धाम पहुंच सकते हैं:(Kedarnath temple)

  1. हेलीकॉप्टर सेवा: केदारनाथ धाम पहुंचने के लिए हेलीकॉप्टर सेवा भी उपलब्ध है। आप देहरादू, सिद्धुली, फिटुर, या गुप्तकाशी से हेलीकॉप्टर सेवा का उपयोग कर सकते हैं।
  2. रोड यातायात: आप गुप्तकाशी या रुद्रप्रयाग से केदारनाथ तक रोड यातायात कर सकते हैं। इन शहरों से केदारनाथ धाम तक कार या टैक्सी का उपयोग करके पहुंच सकते हैं।
  3. ट्रेन और बस: आप हरिद्वार या रिशिकेश से रेल या बस के माध्यम से गुप्तकाशी या रुद्रप्रयाग पहुंच सकते हैं, और फिर से वहां से कार या टैक्सी का सहारा ले सकते हैं।
  4. पैदल यात्रा: जो भी आध्यात्मिक यात्री पैदल यात्रा पसंद करते हैं, वे गुप्तकाशी से केदारनाथ तक पैदल यात्रा कर सकते हैं। यह यात्रा कठिन होती है, लेकिन आध्यात्मिक माहौल में अद्वितीय अनुभव प्रदान करती है।(Kedarnath temple)
READ THIS ALSO :  Nepal Tour Plan: नेपाल ट्रिप पर जाएं तो इन जगहों को घूमना न भूलें, यात्रा होगी पैसा वसूल

यह महत्वपूर्ण है कि आप केदारनाथ धाम की यात्रा की तैयारियों को ठीक से करें, और धार्मिक और प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लें। केदारनाथ धाम की यात्रा का समय और तरीका आपकी व्यक्तिगत पसंदों और आवश्यकताओं के आधार पर निर्धारित किया जा सकता है।

हेलीकाप्टर से केदारनाथ जाने का किराया(Kedarnath temple)

Kedarnath yatra by helicopter
keadrnath yatra by helicopter

हेलीकॉप्टर से केदारनाथ जाने का किराया विभिन्न आयोजकों और सेवा प्रदानकर्ताओं पर निर्भर करता है, और यह आपके यात्रा की तारीख, स्थान, और हेलीकॉप्टर कंपनी के आयोजक पर भी निर्भर कर सकता है।

READ THIS ALSO:Rajasthan Travel Guide: 8 दिन की राजस्थान यात्रा कैसे करे

आमतौर पर, हेलीकॉप्टर सेवा का किराया गुप्तकाशी या सिद्धुली से केदारनाथ तक के लिए हिन्दी यात्री धाम के रूप में पैकेज के हिस्से के रूप में बेचा जाता है।

किराया आपके चयनित हेलीकॉप्टर सेवा प्रदानकर्ता और आपकी यात्रा की तारीख के हिसाब से बदल सकता है, लेकिन आमतौर पर यह किराया प्रति व्यक्ति आसपास 7,000 रुपये से शुरू हो सकता है और ज्यादातर 15,000 रुपये तक हो सकता है।(Kedarnath temple)

कृपया ध्यान दें कि हेलीकॉप्टर सेवा की कीमतें वार्षिक तौर पर बदल सकती हैं और उपलब्धता बारिश और मौसम की स्थिति के आधार पर प्रभावित हो सकती हैं। आपको यात्रा की योजना बनाते समय यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं और अपनी यात्रा की तिथि के लिए मौसम पूर्वानुमान भी देखते हैं।

केदारनाथ धाम कब जाएं(Kedarnath temple)

केदारनाथ धाम जाने का समय आपकी व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और यात्रा की योजना के आधार पर निर्भर करेगा। यहां कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखनी चाहिए:

  1. यात्रा के लिए समय: केदारनाथ धाम की यात्रा में सबसे अधिक पसंद की जाने वाली तिथियां मई से जून और सितंबर से अक्टूबर होती हैं, क्योंकि ये मौसम के हिसाब से स्थिर होती हैं। इस समय केदारनाथ के मंदिर का दर्शन करने के लिए ज्यादा संभावना होती है।
  2. धार्मिक आवश्यकताएँ: केदारनाथ जाने से पहले आपको धार्मिक आवश्यकताओं को भी विचार में लेना चाहिए। कुछ लोग अपनी यात्रा को हिन्दू तीर्थयात्रा के त्यौहारों या शिवरात्रि जैसे धार्मिक अवसरों पर करते हैं।(Kedarnath temple)
  3. मौसम: केदारनाथ क्षेत्र में मौसम बदलने के चलते जून से सितंबर के बीच में बर्फबारी नहीं होती है, इसलिए यह सबसे अच्छा समय हो सकता है धार्मिक यात्रा करने के लिए।
  4. यात्रा की योजना: केदारनाथ जाने से पहले अपनी यात्रा की योजना बनाएं, जैसे कि यात्रा की तारीख, कैसे पहुंचना है, कितने दिनों के लिए रुकना है, और कहां ठहरना है।
  5. रिजर्वेशन और प्राधिकृतिकता: होटल या धर्मशाला में ठहरने के लिए आपको पहले ही रिजर्वेशन कर लेना चाहिए, खासकर पीक यात्रा के समय। यदि आप हेलीकॉप्टर सेवा का उपयोग कर रहे हैं, तो इसकी भी पूर्व से बुकिंग करें।
READ THIS ALSO :  Smallest Country in the World:समंदर में दो पिलर पर बसा है दुनिया का सबसे छोटा देश, जहां रहते हैं सिर्फ़ 27 लोग!

केदारनाथ धाम की यात्रा आध्यात्मिक और दिव्यता से भरपूर होती है, और यह आपके धार्मिक और व्यक्तिगत परिपेक्ष्यों के आधार पर निर्भर करता है कि आप किस समय और कैसे जाना चाहते हैं।

केदारनाथ जाने के लिए Registration प्रक्रिया(Kedarnath temple)

केदारनाथ धाम जाने के लिए ऑनलाइन पास प्राप्त करने की प्रक्रिया केदारनाथ पर्यटन विकास समिति या उत्तराखंड सरकार द्वारा प्रबंधित होती है, और प्रत्येक यात्री को ऑनलाइन पास प्राप्त करने के लिए इस प्रक्रिया का पालन करना होगा। निम्नलिखित है केदारनाथ धाम के लिए ऑनलाइन पास प्राप्त करने की प्रक्रिया:

  1. केदारनाथ धाम की यात्रा की तिथि चुनें: सबसे पहले, आपको केदारनाथ धाम की यात्रा की तिथि का चयन करना होगा। यह तिथि धार्मिक या आध्यात्मिक आवश्यकताओं और आपकी यात्रा की योजना के आधार पर निर्भर करेगी।(Kedarnath temple)
  2. आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करें: केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करें। आप उत्तराखंड सरकार के पर्यटन विभाग की वेबसाइट पर जाकर पास के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  3. आवेदन भरें: वेबसाइट पर आवेदन फॉर्म भरें और आवश्यक जानकारी जैसे कि यात्री का नाम, पता, आवासीय स्थिति, यात्रा की तिथि, और अन्य आवश्यक विवरण प्रदान करें।
  4. आवश्यक दस्तावेज अपलोड करें: आपको आवेदन के साथ आवश्यक दस्तावेज जैसे कि आधार कार्ड, पासपोर्ट फोटो, और अन्य साक्षरता प्रमाणपत्र को स्कैन करके अपलोड करना हो सकता है।
  5. पास प्राप्त करें: आपके आवेदन को समीक्षा करने के बाद, पास की पुष्टि की जाएगी और आपको पास का संदेश या पीडीएफ डाउनलोड करने की अनुमति दी जाएगी। आपको यात्रा के समय पास को साथ लेना होगा जिसे यात्रा के दौरान चेक किया जा सकता है।

कृपया ध्यान दें कि पास प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया स्थानीय नियमों और विधियों के आधार पर बदल सकती है, इसलिए आपको उत्तराखंड सरकार के आधिकारिक पर्यटन विभाग की वेबसाइट पर नवीनत जानकारी के लिए संपर्क करना चाहिए।

केदारनाथ यात्रा कौन नहीं कर सकता आवेदन(Kedarnath temple)

केदारनाथ यात्रा एक धार्मिक और आध्यात्मिक यात्रा होती है और कुछ स्थितियों में यात्रा करने में कठिनाइयां हो सकती हैं। निम्नलिखित स्थितियों में व्यक्ति केदारनाथ यात्रा को नहीं कर सकते:(Kedarnath temple)

READ THIS ALSO:canada visa for Indians :भारत से कनाडा पर्यटक वीज़ा कनाडा विज़िटर वीज़ा-आवश्यक दस्तावेज़, आवेदन कैसे करें

  1. स्वास्थ्य समस्याएँ: यात्रा के दौरान यात्री के पास अच्छी स्वास्थ्य होनी चाहिए, क्योंकि यह फिजिकल और मानसिक कठिनाइयों के साथ आती है।
  2. उम्र सीमा: कुछ यात्रा प्रबंधकों द्वारा यात्री की उम्र सीमा को निर्धारित किया जा सकता है। यात्रा करने के लिए उम्र सीमा के आधार पर नियम बनाए गए हो सकते हैं।
  3. मानसिक और धार्मिक स्थिति: केदारनाथ यात्रा धार्मिक और आध्यात्मिक यात्रा होती है, और यह व्यक्ति की धार्मिक और मानसिक स्थिति पर भी निर्भर करती है। यात्रा करने वाले को धार्मिक नियमों का पालन करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे इस यात्रा के दौरान मानसिक और भावनात्मक रूप से तैयार हैं।
  4. फिजिकल फिटनेस: केदारनाथ यात्रा के दौरान कई कठिन और अनियमित भूमि पर ट्रेकिंग की जाती है। इसलिए यात्री को फिजिकल फिटनेस और ट्रेकिंग क्षमता होनी चाहिए।
  5. धार्मिक या कल्चरल अवगुण: यात्रा के दौरान, यात्री को स्थानीय धार्मिक और सांस्कृतिक अवगुणों का सम्मान करना चाहिए। किसी भी प्रकार की अवमानना या अपशब्दों का प्रयोग करना यात्रा के दौरान नहीं करना चाहिए।
  • 13 साल से कम उम्र वाले बच्चे केदारनाथ धाम नहीं जा सकते है।
  • गर्भवती महिलाएं 6 सप्ताह से अधिक वाली महिला के लिए अनुमति नहीं है।(Kedarnath temple)
  • 75 वर्ष से ऊपर वाले व्यक्ति नहीं जा सकते है।
READ THIS ALSO :  Kailash Parvat Mystery:कैलास पर्वत के ये रहस्य, नासा भी हैरान
Kedarnath temple trek
Kedarnath trek

केदारनाथ यात्रा से जुडी कुछ खास बातें (Kedarnath temple)

केदारनाथ यात्रा भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित हिमालय के एक प्रमुख धाम है और यह हिन्दू धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। यहां कुछ खास बातें हैं जो केदारनाथ यात्रा से जुड़ी होती हैं:

  1. महत्व: केदारनाथ मंदिर केदारनाथ भगवान को समर्पित है, जो हिन्दू धर्म में भगवान शिव के रूप में माने जाते हैं। यहां की यात्रा धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व की होती है।
  2. पौराणिक कथा: केदारनाथ के संबंध में एक पौराणिक कथा है, जिसमें बताया जाता है कि पांडव भ्रात्रियों ने यहां भगवान शिव की दर्शन के लिए यात्रा की थी और उन्हें विशेष रूप से पूजा किया था।
  3. यात्रा का रूख: केदारनाथ यात्रा का मुख्य रूख गर्मी महीनों में अप्रैल से नवम्बर तक खुला होता है, जब सड़कें और पास के गांवों में बर्फ पिघल जाता है। इसके बावजूद, कुछ श्रद्धालु गर्मियों में भी यात्रा करते हैं।
  4. यात्रा का पैदल भाग: केदारनाथ तक पहुंचने के लिए आपको गौरिकुंद से यात्रा का पैदल भाग तय करना होता है, जो लगभग 16 किलोमीटर की दूरी पर है। यह पैदल भाग धार्मिक और स्पिरिचुअल अनुभव का हिस्सा बनता है।
  5. पूजा और आरती: केदारनाथ मंदिर में दिनभर विभिन्न प्रकार की पूजाएं और आरतियां होती हैं, जिनमें श्रद्धालु भाग लेते हैं।
  6. पुण्यस्नान: गर्मियों में यात्री गौरिकुंद के ठंडे जल में स्नान करके पुण्य अर्जित करते हैं।
  7. प्राकृतिक सौंदर्य: केदारनाथ यात्रा आपको बेहद हसीन प्राकृतिक दृश्यों का आनंद लेने का मौका देती है, क्योंकि यह हिमालय पर्वतों में स्थित है।
  8. ध्यान और मेडिटेशन: केदारनाथ के पास के स्थलों पर ध्यान और मेडिटेशन का मौका होता है, जो आपकी आत्मा को शांति और आंतरिक सुख देने में मदद कर सकता है।

Watch this story also:kedarnath temple:अक्टूबर में केदारनाथ जाने से पहले रखें इन बातों का ध्यान, वरना हो जाएगा भारी नुकसान

kedarnath temple:अक्टूबर में केदारनाथ जाने से पहले रखें इन बातों का ध्यान, वरना हो जाएगा भारी नुकसान
Kedarnath temple

Related Searches:

kedarnath temple,
who built kedarnath temple,
when kedarnath temple will open in 2023,
how old is kedarnath temple,
kedarnath temple photos,
kedarnath temple closing date 2023,

Leave a Reply

x
error: Content is protected !!
Scroll to Top