person holding red and black snake

Amazing Facts About Chhatisgarh:छत्तीसगढ़ की 5 अजीबो-गरीब परंपराएं, शादी के दहेज में दिए जाते हैं सांप

Amazing Facts About Chhatisgarh:भारत India विविधताओं का देश है, यहां कई जातियां और बोलियां बोली जाती हैं। हर समाज की अपनी परंपराएं होती हैं। आज इस कड़ी में हम आपको छत्तीसगढ़ की कुछ अनोखी परंपराओं के बारे में बताएंगे जिनके बारे में आपने पहले कभी नहीं सुना होगा। कई परंपराओं के बारे में जानकर आप चौंक जाएंगे। तो आइए जानते हैं…

(Amazing Facts About Chhatisgarh)
Amazing Facts About Chhatisgarh

Amazing Facts About Chhatisgarh:छत्तीसगढ़ की अजीबो-गरीब परंपराएं

छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में दिवाली मनाने की एक अनोखी परंपरा है। सेमरा गांव में दिवाली से एक सप्ताह पहले त्योहार मनाने की परंपरा पिछले पांच दशकों से चली आ रही है. सिर्फ दिवाली ही नहीं बल्कि होली का त्योहार भी एक हफ्ते पहले मनाया जाता है

दिवाली और होली एक हफ्ते पहले

Diwali celebration
diwali celebration


छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में एक अनोखी परंपरा(Amazing Facts About Chhatisgarh) है. यहां के सेमरा गांव में दिवाली से एक सप्ताह पहले त्योहार मनाने की परंपरा पांच दशक से चली आ रही है. इसके एक सप्ताह पहले न केवल दिवाली बल्कि होली का त्योहार भी है।

जानिए इस परंपरा का रहस्य

इस परंपरा का रहस्य यह है कि गांव में एक सिधार देव हैं जिन्होंने गांव को एक बड़ी आपदा से मुक्ति दिलाई थी। गाँव के पुजारी को भी एक सपना आया जिसमें सिद्दर देव ने उन्हें आश्वासन दिया कि गाँव को कोई नुकसान नहीं होगा और उनसे कहा कि पहले उनकी पूजा की जानी चाहिए। इसलिए यह उत्सव एक सप्ताह पहले होता है।

READ THIS ALSO :  Adi Kailash: कैसे पहुंचे आदि कैलाश, यहां मिलेगी पूरी जानकारी

YOU MAY LIKE:

फूल धोने की परंपरा(Amazing Facts About Chhatisgarh)

flower celebration
flower celebration

हम आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ के सरगुजा में स्थित मैनपाट अपने खूबसूरत नजारों के लिए काफी मशहूर है। यहां एक अनोखी परंपरा जारी है. इस क्षेत्र में बसे मांजी मजवाल के लोगों में शादी के रिसेप्शन आयोजित करने की एक अनूठी परंपरा है। यहां लड़की की बहनें और भाई फूलों से नहाकर और नाच-गाकर बारात का स्वागत करते हैं। इसके बाद दूल्हे को हल्दी और तेल लगाकर विवाह स्थल पर आने का निमंत्रण दें।

हम आपको बताते हैं कि यह परंपरा पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मझवार के निवासियों का कहना है कि अलग-अलग गोत्रों में आने वाली बारातों का स्वागत केवल उनके मान्यता प्राप्त पशु-पक्षियों के लिए किया जाता है ताकि अन्य परिवारों को उनकी पहचान और गौरव का एहसास हो सके।

जल को साक्षी मानकर विवाह(Amazing Facts About Chhatisgarh)

hindu marriage
hindu marriage

छत्तीसगढ़ की यह परंपरा(Amazing Facts About Chhatisgarh) विवाह से भी जुड़ी है। दरअसल, बस्तर क्षेत्र का आदिवासी समुदाय एक अनोखी परंपरा का पालन करता है, जहां आदिवासी पानी को साक्षी मानकर शादी करते हैं। क्योंकि वे शादी के लिए होने वाले अनावश्यक खर्चों से बचना चाहते हैं। ये परंपरा कई सालों से चली आ रही है. पानी के भीतर गवाह बनकर शादी करने वाले आदिवासी धुरवा समुदाय के हैं। इस समाज में पानी को बहुत महत्व दिया जाता है। खास बात यह है कि शादी में इस्तेमाल किया जाने वाला पानी कांकेरी नदी से आता है, जो बस्तर में ही बहती है।

READ THIS ALSO :  Exploring Sissu Temperature and Weather Today

गोदना गुदवाने की परंपरा(Amazing Facts About Chhatisgarh)

man drawing the pattern of a tattoo on a client
tatto


छत्तीसगढ़ के राणामी समाज में एक अनोखी परंपरा(Amazing Facts About Chhatisgarh) जारी है. इस समुदाय के लोग अपने पूरे शरीर पर राम का नाम गुदवाते हैं लेकिन हैरानी की बात यह है कि ये लोग मंदिर नहीं जाते और न ही मूर्ति पूजा करते हैं। इस तरह के टैटू को स्थानीय भाषा में गुडाना कहा जाता है। इस परंपरा को ईश्वर की पूजा और सामाजिक विद्रोह का एक रूप माना जाता है।

विद्रोह का इतिहास

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऊंची जाति के हिंदुओं ने 100 साल पहले इस समुदाय के मंदिर में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसी विरोध के चलते इस समाज के लोगों ने अपने पूरे शरीर पर राम का नाम गुदवाना शुरू कर दिया।

शादियों में उपहार के रूप में सांप दिए जाते हैं(Amazing Facts About Chhatisgarh)

snakes as a gift in marriages
snakes as a gift in marriages

सर्पलोक छत्तीसगढ़ के कोरबा में सोहागपुर गांव में स्थित है। सावरा समुदाय की एक अनोखी परंपरा(Amazing Facts About Chhatisgarh) है। यहां परिवार अपनी बेटी की शादी में दहेज के तौर पर 21 सांप देता है। इसके पीछे मान्यता यह है कि इससे ससुराल में समृद्धि आती है और जीविकोपार्जन के लिए सांप दिखाकर पैसे कमाने की परंपरा भी जारी रहनी चाहिए। इस समाज के लिए बड़ी समस्या यह है कि चूंकि इनके पास जमीन नहीं है, जाति प्रमाणपत्र नहीं है, इसलिए वे आरक्षण का लाभ नहीं ले सकते.

READ THIS ALSO:

Leave a Reply

x
error: Content is protected !!
Scroll to Top